khel

ये जीत नहीं आसां

वल्र्ड कप में सेमीफाइनल की रेस काफी दिलचस्प और रोमांचक हो गई है। अब तक सिर्फ ऑस्ट्रेलियाई टीम ही सेमी के लिए क्वॉलिफाई कर सकी है। भारत की दावेदारी मजबूत है क्योंकि उसे बाकी बचे 2 मैचों में सिर्फ 1 में ही जीत अंतिम-4 में पहुंचाने के लिए काफी है। मेजबान इंग्लैंड को इस बार वल्र्ड कप का सबसे बड़ा दावेदार बताया गया था, लेकिन 30 जून को भारत से मिली जीत के बाद भी उस पर टूर्नामेंट से नॉकआउट होने का खतरा मंडरा रहा है। वहीं पाकिस्तान और बांग्लादेश की उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।
मेजबान इंग्लैंड अगर अपना आखिरी मैच जीत जाता है तो वह अंतिम-4 में जगह बना लेगा। लेकिन अगर वह मैच हार जाए और पाकिस्तान या बांग्लादेश अपने बचे हुए दो-दो मैचों में से एक मैच भी जीत ले, तो मेजबान का बिस्तर सिमट जाएगा। भारत से मिली जीत के बाद इंग्लैंड के दस अंक हो गए हैं। ऐसी स्थिति में अगर पाक या बांग्लादेश में से कोई एक अपने दोनों मैच जीत ले तो फिर उसके पास इंग्लैंड से ज्यादा अंक हो जाएंगे और इंग्लैंड दौड़ से बाहर हो जाएगा। अगर श्रीलंका ने भी अपने दोनों मैच जीत लिए तो उसके और इंग्लैंड के बराबर अंक हो जाएंगे, बात तब नेट रन रेट पर अटकेगी।
पाकिस्तान अगर अपने दोनों मैच में जीत दर्ज कर लेता है तो उसके 11 अंक हो जाएंगे। वहीं इंग्लैंड अपना आखिरी मैच हार जाता है तो फिर पाकिस्तान अगले दौर में पहुंच जाएगा। अगर पाकिस्तान और इंग्लैंड अपने बाकी बचे दोनों मैच जीत लें और न्यूजीलैंड अपने बचे हुए दोनों मैच गवां दे तो फिर इंग्लैंड आसानी से अंतिम चार में पहुंच जाएगा और पाकिस्तान व न्यूजीलैंड में से बेहतर रन रेट वाली टीम आगे जाएगी।
इस बार का क्रिकेट वल्र्डकप ऐसे रोचक दौर में पहुंच गया है जहां अधिकांश देशों की टीमों के सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए दूसरी टीम की हार-जीत का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। सेमीफाइनल की दौड़ में श्रीलंका भी बरकरार है। पाकिस्तान और बांग्लादेश अपने बचे हुए दो-दो मैचों में से सिर्फ एक ही जीत पाएं और श्रीलंका अपने बचे हुए दोनों मैच जीत जाए तो इंग्लैंड और श्रीलंका के 10-10 अंक हो जाएंगे। फिर बात नेट रन रेट पर अटकेगी। लेकिन अगर इंग्लैंड, पाकिस्तान और बांग्लादेश में से किसी ने भी अपने दोनों मैच जीत लिए तो श्रीलंका रेस से बाहर हो जाएगा। शानदार प्रदर्शन कर रही बांग्लादेशी टीम के सात मैचों से 7 अंक हैं। उसे अगले दो मैच पाकिस्तान और भारत से खेलने हैं। अगर उसने दोनों मैच में उलटफेर कर दिया और इंग्लैंड दो में से केवल एक मैच ही जीत पाता है तो फिर बांग्लादेश सेमीफाइनल में पहुंच जाएगा। अगर पाकिस्तान और बांग्लादेश अपने बाकी दो मैचों में से एक ही मैच जीत पाते हैं, वहीं इंग्लैंड अपना आखिरी मैच गवां दे तो फिर ऑस्ट्रेलिया, भारत और न्यूजीलैंड के बाद अंतिम चार में जगह बनाने वाली टीम पाकिस्तान या बांग्लादेश होगी। अगर बांग्लादेश दो में से एक ही मैच जीत पाता है और पाकिस्तान दोनों मैच गवां दें तो बांग्लादेश आसानी से अंतिम चार में होगा। अगर पाकिस्तान और बांग्लादश एक-एक मैच जीतते हैं फिर बांग्लादेश और पाकिस्तान के बराबर अंक हो जाएंगे और बेहतर रन रेट वाली टीम अंतिम चार में पहुंचेगी।
लेकिन सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए इन टीमों को अपनी जीत के साथ ही दूसरों की हार की भी कामना करनी होगी। भारत दो जुलाई को बांग्लादेश के साथ होने वाला मैच जीतकर सेमीफाइनल के लिए अपना टिकट फाइनल करने के लिए पूरी मेहनत लगा देगी।
-आशीष नेमा