khel

मुंबई बना चैंपियन

मुंबई इंडियंस ने चिर प्रतिद्वंद्वी चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में एक रन से हरा इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण का खिताब अपने नाम कर लिया। रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई की टीम ने चौथी बार आईपीएल चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया। इसके साथ ही टी-20 के इतिहास में चौथी बार देखा गया, जब किसी टीम ने एक रन से फाइनल जीता। आईपीएल की बात करें, तो दूसरी बार ऐसा हुआ और मजे की बात है कि दोनों बार मुंबई इंडियंस ने यह कारनामा किया। पिछली बार 2017 में मुंबई इंडियंस ने फाइनल में राइजिंग पुणे सुपर जायंट को एक रन से हराया था।
चेन्नई सुपर किंग्स के लेग स्पिनर इमरान ताहिर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे और इसी कारण उन्हें पर्पल कैप से नवाजा गया। आईपीएल में एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज को पर्पल कैप दी जाती है। ताहिर ने इस सीजन 17 मैचों की 17 पारियों में कुल 26 विकेट लिए। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 12 रन देकर 4 विकेट रहा। ताहिर ने इस सीजन 431 रन खर्च किए। ताहिर किसी एक सत्र में सर्वाधिक विकेट लेने वाले स्पिनर भी बन गए हैं। उन्होंने सुनील नरेन (2012) और हरभजन सिंह (2013) के 24-24 विकेट के रिकार्ड को तोड़ा। वह प्रज्ञान ओझा (2010 में 21 विकेट) के बाद पर्पल कैप हासिल करने वाले दूसरे स्पिनर बन गए हैं।
बॉल टेम्परिंग विवाद के कारण लगे प्रतिबंध के चलते बीते साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से बाहर रहे ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज डेविड वार्नर ने आईपीएल के 12वें सीजन में दमदार वापसी की और लीग में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने। वह लीग के 12वें सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने के कारण ऑरेंज कैप के हकदार रहे। वार्नर ने इस सीजन 12 मैच खेले और 69.20 की औसत से 692 रन बनाए। इसमें एक शतक और 8 अर्धशतक शामिल हैं। उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 100 रहा। वार्नर ने इस सीजन में तीन मैच कम खेले क्योंकि विश्व कप टीम का हिस्सा बनने के लिए उन्हें बीच आईपीएल में स्वदेश लौटना पड़ा। वार्नर के जाने के बाद हैदराबाद दो लीग मैच और प्लेऑफ में एक एलिमिनेटर मैच भी खेला था।
यह तीसरा अवसर है जब वार्नर ने ऑरेंज कैप हासिल की। इससे पहले उन्होंने 2015 में 562 और 2017 में 641 रन बनाकर ऑरेंज कैप हासिल की थी। तीसरी बार ऑरेंज कैप हासिल करने वाले वार्नर पहले खिलाड़ी हैं। वार्नर के बाद दूसरे स्थान पर किंग्स इलेवन पंजाब के सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल रहे। राहुल ने 14 मैचों में 53.90 की औसत से एक शतक और छह अर्धशतक के दम पर 593 रन बनाए। राहुल का इस सीजन सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 100 रहा। तीसरे स्थान पर मुंबई इंडियंस के क्विंटन डि कॉक हैं। जिन्होंने 16 मैचों की 16 पारियों में 35.26 की औसत से 529 रन बनाए। उन्होंने इस सीजन चार अर्धशतक भी जमाए। डी कॉक ने इस सीजन एक पारी में सर्वाधिक 81 रन बनाए।
छह सीजन बाद प्लेऑफ में पहुंचने वाली दिल्ली कैपिटल्स के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन चौथे स्थान पर रहे। धवन ने 16 मैचों में 34.73 की औसत से 521 रन अपने खाते में डाले। धवन ने अपनी टीम के लिए पांच अर्धशतक भी लगाए हैं। धवन का सर्वोच्च स्कोर नाबाद 97 रहा। पांचवें नंबर में कोलकाता नाइट राइडर्स के आंद्रे रसेल रहे जिन्होंने इस सीजन अपनी कई पारियों से कोलकाता को हार से मुंह से बाहर निकाला। रसेल ने इस सीजन 14 मैच खेले जिसमें 56.66 की औसत से 510 रन बनाए. रसेल ने चार बार 50 का आंकड़ा पार किया। रसेल का सर्वोच्च स्कोर नाबाद 80 रहा।
महेंद्र सिंह धोनी का क्रिकेट सफर कब थमेगा, क्या इंग्लैंड में होने वाले वल्र्ड कप के बाद..? यह कहना मुश्किल है क्योंकि आईपीएल के 12वें सीजन के फाइनल के बाद धोनी अगले साल भी खेलने का संकेत दे गए हैं। धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स को रविवार को हुए फाइनल मुकाबले में मुंबई इंडियंस के हाथों एक रन से हार मिली। सुपर किंग्स आठवीं बार फाइनल में पहुंचे थे। मुंबई ने उसे हराकर चौथी बार खिताब जीता।
पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर संजय मांजरेकर ने मैच के बाद धोनी से लंबी बातचीत की। इस दौरान धोनी ने मैच को लेकर कई अहम मुद्दों पर चर्चा की। इसी दौरान धोनी ने कहा कि दोनों टीमों ने कई सारी गलतियां कीं और जिस टीम ने एक गलती कम की, उसी की जीत हुई। मांजरेकर ने जब धोनी से यह पूछा कि अगले साल भी वह आईपीएल में होंगे, तो धोनी रहस्यपूर्ण जवाब देकर चले गए। इंटरव्यू के बाद मांजरेकर ने जाते-जाते धोनी से कहा, शानदार सफर रहा। आपको अगले सीजन में फिर देखने की उम्मीद है। इस पर धोनी ने कहा, हां, उम्मीद है।ज्कहा जा रहा है कि 37 साल के धोनी इंग्लैंड में 30 मई से होने वाले विश्व कप के बाद संन्यास ले सकते हैं, लेकिन अब तक उन्होंने किसी प्रकार का संकेत नहीं दिया है। आईपीएल-12 में उन्होंने चेन्नई के लिए सबसे अधिक रन बनाए हैं। उनकी फिटनेस भी काफी अच्छी है। विकेट के पीछे उनकी चपलता आज भी देखते ही बनती है। ऐसे में धोनी को अगले साल आईपीएल के नए सीजन में फिर से देखा जा सकता है..? इस सवाल का जवाब शायद धोनी ही दे सकते हैं।
-आशीष नेमा