aparadh

अपराधियों के हौसले बुलंद

मप्र में सरकार भले ही बदल गई है, लेकिन अपराध पर अब तक कोई रोक नहीं लगी है। प्रदेश में आपराधिक घटनाएं लगातार हो रही हैं। सतना जिले के चित्रकूट में दो बच्चों का बंदूक की नोक पर उनकी स्कूल बस से किए गए अपहरण ने यह साबित कर दिया है कि प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। लेकिन आपराधिक घटनाओं को लेकर जिस तरह की राजनीति की जा रही है वह चिंतनीय है। खासकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपराधों को लेकर जिस तरह के बयान दे रहे हैं वे हास्यास्पद लग रहे हैं। यही नहीं सतना की घटना के बाद तो उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलने का जो कदम उठाया उससे उनकी साख पर सवाल उठने लगे हैं।
इसमें कोई दोराय नहीं है कि प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। पिछले करीब दो माह के अंदर लगातार आपराधिक घटनाएं हो रही हंै। हाल ही में इंदौर में कुछ दिन पहले हुए अक्षत अपहरण मामले को सुलझे अभी 24 घंटे भी नहीं हुए थे कि सतना जिले के चित्रकूट में 2 बच्चों का बंदूक की नोंक पर उनकी स्कूल बस से ही अपहरण हो गया। गौरतलब है कि चित्रकूट के नयागांव थाना इलाके में दोपहर एक निजी स्कूल परिसर से दिनदहाड़े छह वर्षीय दो भाईयों को बदमाशों ने बंदूक की नोंक पर अपहरण कर लिया। पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह गौर ने बताया, ”नयागांव के एक स्कूल परिसर में तेल कारोबारी ब्रजेश रावत के एक केजी और यूकेजी में पढऩे वाले जुडवां बेटे देवांश और शिवांस स्कूल की छुट्टी के बाद घर जाने के लिये स्कूल बस में बैठ रहे थे। तभी बाइक से आये दो बदमाशों ने तमंचे के बल पर दोनों बच्चों का अपहरण कर लिया और जंगल की ओर फरार हो गये। फिलहाल बदमाशों का कोई सुराग नहीं मिला है, पुलिस घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरों में बदमाशों के फोटो देखकर उनका पता लगाने में जुट गयी है। वहीं इस अपहरण की घटना के तुरंत बाद रीवा जिले के मनगवां में युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसी बीच बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह ने आरोप लगाया है कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के साथ ही लगातार कानून व्यवस्था ठप्प हो गई है और शांति का प्रदेश कहे जाने वाले मध्यप्रदेश में डर का वातावरण बन रहा है।
उधर प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन का कहना है कि अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने कमर कस ली है। अपराध करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी बड़े शहरों से लेकर छोटे शहरों तक में पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई है। सरकार के इन दावों के बाद भी आपराधिक घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। प्रदेश के झाबुआ जिले में एक 19 साल के लड़के के अपहरण का मामला सामने आया। बदमाशों ने इसके लिए 20 लाख की फिरौती मांगी। लड़के के पिता ने चार दिन पहले पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि अपहरण के बाद उनसे 20 लाख रूपए की फिरौती मांगी गई है। अपहरण किए गए युवक का नाम नरेश है। वहीं शिवराज सिंह चौहान ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा- मुझे याद है, जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना था तब मैंने कहा था मध्यप्रदेश में या तो शिवराज रहेगा या तो फिर डाकू। मेरे शासनकाल में डाकुओं का सफाया हो गया था, लेकिन वे फिर पनपने लगे हैं।
दरअसल मप्र की नई सरकार को अपराध युक्त राज्य मिला है। पिछले एक दशक से मप्र हत्या, बलात्कार और अन्य आपराधिक घटनाओं में देश के अन्य राज्यों से आगे है। देश का दिल कहे जाने वाले मध्यप्रदेश के माथे पर एक बदनुमा दाग लग गया है। एक दशक से भी लंबे समय से मध्य प्रदेश महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों में देशभर में पहले स्थान पर है। देश में हर साल गुम हो रहे लाखों बच्चों को खोजने और मानव तस्करी को रोकने केंद्र सरकार ने सभी राज्यों में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट बनाने के आदेश दिए थे। 2010 में केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को इस संबंध में पत्र भी लिखा था, लेकिन मप्र में अभी यूनिट कागजों से बाहर नहीं निकल सकी है। वह भी तब, जब बच्चों की गुमशुदगी के मामले में मप्र देश में अव्वल है। प्रदेश में हर साल 6 से 8 हजार बच्चे गुम हो जाते हैं। लोगों को उम्मीद है कि नई सरकार अपराध और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए कठोर कदम उठाएगी।
बबली कोल की तलाश में जंगल में उतरी पुलिस
तराई में आतंक का पर्याय बन चुके बबली कोल गिरोह के अचानक सक्रिय होने से एक बार फिर पुलिस की नींद उड़ गई है। इस गिरोह की तलाश में रीवा और सतना पुलिस तराई में उतर गई है। पुलिस की टीम ने इलाके के कई जंगलों की सर्चिंग की है। दरअसल, पुलिस मुख्यालय से मिले निर्देश के बाद पुलिस एक बाद फिर जंगल में उतरी है। गौरतलब है कि बबली कोल गिरोह ने यूपी में सड़क निर्माण करवाने वाले ठेकेदार के मुनीम से पांच लाख रुपए की रंगदारी मांगी थी और सतना जिले के चित्रकूट में हुए अपहरण की वारदात में भी इस गिरोह का नाम सामने आया है। सेमरिया थाने के उपनिरीक्षक मनोज गौतम के नेतृत्व में पुलिस की टीम ने सेमरिया के ककरेड़ी, मैनहा, कटाई, हनुमनचुआं, दरहटा के जंगलों में सर्चिंग की।
-सुनील सिंह