khel

इस जीत के बड़े मायने

न्यूजीलैंड के दौरे पर गई भारतीय टीम ने 10 साल बाद कीवियों के खिलाफ सीरीज में जीत दर्ज करके एक नया इतिहास रच दिया है। इसी जीत के साथ 2014 की सीरीज में 4-0 की हार का बदला भी ले लिया है। इससे पहले न्यूजीलैंड की धरती पर भारत सिर्फ एक बार 2008-09 में ही वन-डे सीरीज जीत सका था। पहले तो विदेशी धरती पर पहुंचते ही भारतीय टीम के खिलाड़ी जैसे हक्के-बक्के रह जाते थे। समझ ही नहीं पाते थे कि वहां के मैदान पर कैसे खेला जाए और जब तक समझते थे, तब तक सीरीज हाथ से निकल चुकी होती थी। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। इस बार कोहली ब्रिगेड ने कीवियों को उनकी ही धरती पर विदेशी बना दिया।
इसमें कोई दोराय नहीं है कि अपनी धरती पर हर टीम बेहतर प्रदर्शन करती है। अगर न्यूजीलैंड और भारत के बीच हुई पुरानी वन डे सीरीज का इतिहास उठाकर देखा जाए तो भी यही ट्रेंड देखने को मिलता है। न्यूजीलैंड अपनी जमीन पर अधिक मैच जीतती रही, जबकि भारत ने अपनी जमीन पर सबसे अधिक मैच जीते। यानी जब भी कोई टीम विदेश में खेलने पहुंची तो उसकी ताकत कम पड़ गई, लेकिन इस बार भारत ने घर में घुसकर मारा है। भारत ने न्यूजीलैंड को उसी की धरती पर हराया है और कीवियों को अपनी ही धरती पर विदेशी बना दिया है। ये हार भी कोई ऐसी वैसी नहीं है, बल्कि कीवियों को शर्मिन्दा करने वाली है। हर मैच में भारतीय गेंदबाजों ने कीवियों के छक्के छुड़ा दिए, जिसकी वजह से अब तक हुए तीनों मैच में न्यूजीलैंड ऑल आउट हो गई। किसी भी मैच में पूरे ओवर तक नहीं खेल सकी, जबकि भारतीय टीम मैदान पर पैर जमाकर तब तक खेलती रही, जब तक जीत नहीं गई।
सबसे अधिक रन बनाने वालों की लिस्ट में टॉप-3 तो भारत के ही हैं। शिखर धवन 169 रनों के साथ पहले नंबर पर हैं, रोहित शर्मा ने 160 रन बनाकर दूसरा स्थान पाया है और तीसरे स्थान पर 148 रन बनाकर विराट कोहली हैं। वैसे अगर देखा जाए तो ये तीनों ही मुख्य खिलाड़ी हैं, जो पूरा मैच अपने कंधों पर उठा लेते हैं। इन तीनों ने मिलकर ही मैच में बने कुल 725 रनों में से 477 रन बनाए हैं। वहीं चौथे और पांचवे नंबर पर न्यूजीलैंड के रॉस टेलर (139) और केन विलियमसन (112) हैं।
बात पहले मैच की हो, दूसरे की हो या तीसरे की, सभी में न्यूजीलैंड ऑल आउट हो गया। पहले मैच में भारत ने सिर्फ 38 ओवर में ही पूरी टीम को आउट कर दिया और 34.5 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया। दूसरे मैच में न्यूजीलैंड 40.2 ओवर तक टिक पाया और भारत की ओर से मिले 324 रनों के लक्ष्य तक नहीं पहुंचा। वहीं तीसरे मैच में न्यूजीलैंड की टीम 49 ओवर तक खेली, लेकिन बावजूद इसके हार का मुंह देखना पड़ा। भारत ने 43 ओवर में ही लक्ष्य हासिल करके 7 विकेट से जीत हासिल कर ली।
-आशीष नेमा