film

एक सीन के लिए सीखनी पड़ी बंदूक चलाना

डकैतों के युग पर आधारित फिल्म सोनचिडिय़ा के एक सीक्वेंस को 50- 60 आदमियों के साथ फिल्माया जाना था। चंबल के बीहड़ों में इस सीन को फिल्माने के लिए पंजाब से लोगों को बुलाया गया और असली बंदूक चलाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था।
डकैतों के उस युग में बंदूक बड़े पैमाने पर इस्तेमाल की जाती थी। ऐसे में, एक्शन सीन में वास्तविकता दिखाने के लिए, निर्माताओं ने यह सुनिश्चित किया कि इन लोगों को
वास्तविक बंदूकों का उपयोग करने के लिए औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त हो। इसके अलावा, बैकग्राउंड कलाकारों को प्रशिक्षित करने के लिए पर्याप्त समय व्यतीत किया गया ताकि वे अपने किरदार के अनुसार ताकतवर और निडर नजर आए।
अभी इस फिल्म का ट्रेलर ही जारी हुआ है। इस ट्रेलर में मध्यप्रदेश के चंबल क्षेत्र के 1970 दशक के युग को दिखाया गया है। ट्रेलर में चंबल के प्रसिद्ध डकैतों की कहानी और स्थानीय पुलिस के साथ उनके विद्रोह को दिखाया गया है। वही, फिल्म की थीम को मद्देनजर रखते हुए स्टारकास्ट इंटेंस अवतार में दिखाई देंगी। मुख्य भूमिका में सुशांत सिंह राजपूत, भूमि पेडनेकर, मनोज वाजपेयी, रणवीर शोरे और आशुतोष राणा हैं। फिल्म की कहानी घोर देसी है।
उड़ता पंजाब और इश्किया जैसी कहानी के साथ दर्शकों का मनोरंजन कर चुके निर्देशक अभिषेक चौबे पहली बार डाकुओं की कहानी कह रहे हैं, हालांकि वे अभी तक क्राइम स्टोरी ही सुनाते रहे हैं। निर्माता रोनी स्क्रूवाला ने इस फिल्म में पैसा लगाया है।