vyang

खेती का परदूषण

वो क्या है कि इधर मैं भी गांव चला गया था। कुछ खेती-किसानी जैसी बातों पर ध्यान गया तो किसान-आन्दोलन को लेकर किसानी पर लिखने के लिए किसी खेतिहर के खेती करने जैसा मन तडफ़ड़ाने लगा था। लेकिन गांव के हालत तो सबको पता ही होते हैं, वहां नेटवर्क की समस्या होती है, और गाहे-बगाहे नेटवर्क मिले भी तो, बेदर्दी मानसून की तरह यह कभी आया या कभी न आया। सो, लिखने से मन भी उचट गया था। ऐसे ही तो किसान का भी मन किसानी से उचट जाता है!
तो, खेती-किसानी और लेखन-वेखन को मैं एक ही तराजू पर तौलता हूं। लेखक बेचारा लिख-लिख कर थक जाता है, मगर प्रकाशक भी है कि सरकार टाइप का बना रहता है, उसका मन पसीजता नहीं और लेखक के लेखन को किसी किसान के खेत की उपज टाइप का समझ लेता है। इसी तरह बेचारा किसान भी लेखक की तरह दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर हो जाता है।
असल में क्या है कि सब कुछ नेटवर्क का ही खेल है, खेती भी नेटवर्क आधारित होती है। वैसे अच्छे नेटवर्क का मिलना हमारे देश में आज भी दैवयोग ही है और भारतीय खेती भी तो दैवयोग पर ही आधारित होती है! दैवयोग का मारा बेचारा यह किसान, एक अलग तरीके का नेटवर्क डेवलप करने के चक्कर में, खेत में पसीना बहाने की बजाय इसी में अपना पसीना बहाने लगता है। फिर अच्छा नेटवर्क मिल जाने पर औने-पौने अपना जोतबही उसी नेटवर्क को सौंपकर थक-हार कर घर लौट आता है।
एक बात और है आज का किसान जन्म लेते ही इस नेटवर्क में स्वयं को जकड़ा हुआ पाता है। बचपन में मुझे याद है, खेती फायदे के लिए नहीं की जाती थी.. इसका उद्देश्य पेट भरना हुआ करता था, लोग मजे से खेती किया करते थे और अपने लिए साल भर का अनाज पैदा करने पर ही संतुष्ट हो जाते थे, लेकिन अब क्या है कि आर्थिक लाभ का जमाना है, देश का पूरा सिस्टम इस लाभ के खेल में जकड़ा हुआ है और लाभ के सिस्टम का यह खेल किसानों पर भारी पड़ गया है। खेती तो व्यवसाय नहीं बन पाई, लेकिन उसके बच्चे को भी व्यवसायिक शिक्षा चाहिए, बेटी की शादी में वर पक्ष के लाभ की आकांक्षा में मोटा दहेज देना है किसी से कमतर न दिखें इसके लिए स्टेटस भी मेंटेन करना है..और इन सब के बाद हारी-बीमारी से बचने के लिए इलाज की मंहगाई जैसे आर्थिक लाभ और जीवन यापन के बीच के अजीब से बन चुके नेटवर्क में उलझे किसान की खेती भी बंधक टाइप की हो चुकी है, लेकिन यह सब, खेती से कहां पूरा होगा..? खेती बेचारी कितनी बोझ सहेगी..?
फिर तो, किसान को कर्ज में डूबना ही है..!
देश का यही आर्थिक संजाल गाहे-बगाहे किसानों को भड़काता है, आंदोलित करता है। लेकिन स्वयं किसान आंदोलित होता है, इस पर मुझे सन्देह रहा है और है..! दैवयोग पर निर्भर किसान कभी आंन्दोलित हो ही नहीं सकता यहां मैंने बुंदेलखंड में देखा है लगातार सूखा पडऩे के बाद भी किसान टस से मस नहीं होता.. पानी बरसा तो ठीक नहीं तो, शहरों में भागकर मजदूरी करना ही है, और सरकार है कि आज तक यहां के किसानों को सिंचाई का कोई नेटवर्क नहीं दे पायी है। मुझे आश्चर्य है, यहां के किसान आन्दोलन क्यों नहीं करते..? कारण, जिनको आन्दोलन करना है वे सेफ्टीवाल्व की तरह हैं..किसान और किसानी पर हावी हैं और तमाम संसाधनों पर इन्हीं का कब्जा है। जब कभी ये असंतुष्ट होते हैं तो किसान और किसानी को जरूर मोहरा बना लेते हैं और फिर मतलब सध जाने के बाद चुप बैठ जाते हैं। यही नहीं यहां के खनिज-कर्म से बर्बाद होती खेती पर ये पसीजते तक नहीं, इनसे किसानों से कोई मतलब नहीं।
असल में किसान-आन्दोलन और कुछ नहीं बिचौलियों का अपनी स्वार्थपूर्ति के लिए छेड़ा गया संघर्ष है, जिससे किसानों का कोई लेना-देना नहीं होता। इनमें से जो तथाकथित किसान आन्दोलनरत दिखाई भी देते हैं उनके घरों में किसानी-कृत्य और कृषि-उपज को परदूषण की भांति देखा जाता है। उस दिन खेती का हालचाल पंूछने पर मेरी चाची किसी ऐसे ही किसान के घर का हालचाल बता रही थी –
बेटवा आजकल खेती के हाल का बताएं पहिले जइसे वाली बात अब नाहीं बा अब नई बहू शहर से गांव आवत हैं तो अरहर दलते हुए छिलका देखि के अपनी सास से कहत हैं कि मां जी इहां घर में बहुत परदूषण फइला है, रहना मुश्किल है।
तो, भइया जिनके घरों में खेती परदूषण की तरह देखी जाती है वही किसान आंदोलन की अगुवाई करते हैं बाकी हम जैसे लोग, हमारे ही इनकमटैक्स से खरीदी हुई सरकारी सम्पत्तियों को धूं-धूं जलते हुए देखने के लिए मजबूर होते हैं।
– विनय कुमार तिवारी