jangalnama

रातापानी बनेगा टाइगर रिजर्व

भोपाल के नजदीक स्थित रातापानी अभयारण्य को टाइगर रिजर्व बनाने का रास्ता साफ हो गया है। रातापानी अभयारण्य को टाइगर

pahal

अब सड़कों पर इलेक्ट्रिक बसें

पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते मूल्य आने वाले समय में बड़ी समस्या बन सकते हैं। इसको देखते हुए केंद्र सरकार ने

mudda

बंग-जंग

दिल्ली के दांव पर दीदी की चाल के चर्चे सिर्फ पश्चिम बंगाल ही नहीं बल्कि पूरा देश कर रहा है।

indore

कहां से वसूलेंगे 700 करोड़ रुपए?

मप्र की व्यावसायिक राजधानी इंदौर को अफसरों का स्वर्ग माना जाता है, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मुख्य सचिव

bundelkhand

सूखे के पैकेज से बनी मंडियां और गोदाम

बुंदेलखंड पैकेज से भले ही वहां के निवासियों का भला नहीं हुआ, लेकिन अधिकारियों और ठेकेदारों की तकदीर जरूर बदल

p-bangal

जलता प.बंगाल

पश्चिम बंगाल में एक बार फिर दंगे की आग भड़क उठी है। सूबे के उत्तरी परगना जिले के बसिरहाट परिक्षेत्र

utarakhand

ताजपोशी के मायने

उत्तराखण्ड में भाजपा ने स्थापित नेताओं को दरकिनार कर त्रिवेंद्र रावत को कमान सौंपी है। इसके स्पष्ट संकेत हैं कि

bundelkhand

अवैध खनन से बेजार बुंदेलखंड

बुंदेलखंड यानी शोषण, अवैध खनन, माफिया, डकैतों, रसूखदारों, नेताओं और अफसरों द्वारा सताए गए लोगों की भूमि। इस बुंदेलखंड की

waqf

100 करोड़ की वक्फ संपत्ति पर रसूखदारों का कब्जा

सूबे में फैली अरबों की वक्फ प्रॉपर्टी को रसूखदारों द्वारा कैसे हड़पा जा रहा है इसका नजारा बुरहानपुर में सामने

maharastra

साख पर सवाल

महाराष्ट्र में भाजपा की साख लगातार गिरती जा रही है। प्रदेश में भाजपा के मंत्रियों पर जितने आरोप लगे हैं

bundelkhand

पांच अरब की शराब गटक जाते हैं बुंदेलखंड के लोग

बुंदेलखंड भयानक सूखे के दौर से गुजर रहा है। अकाल जैसे हालात हैं। बूंद-बूंद पानी के लिए मारामारी मची है।

bundelkhand0

‘भूखे बुंदेलखंडÓ में अनाज की लूट

सूखे की मार झेल रहे बुंदेलखंड में लोग भूख से इतने बेहाल होने लगे हैं कि अब वे अनाज भी लूटने लगे हैं। ऐसी एक नहीं करीब दर्जनभर घटनाएं सामने आईं हैं। पिछले दिनों बांदा जिले में हुई ऐसी ही एक घटना में लोगों ने सार्वजनिक

maharatra0

विदर्भ कब तक सहेगा अन्याय

कर्ज माफी अगर किसानों को आत्महत्या से रुक जाती तो, अब तक किसी किसान की आत्महत्या की खबर नहीं आती। दरअसल, कर्ज माफी किसानों की समस्याओं का हल नहीं है और न ही किसी सरकार ने किसानों की असली परेशानी

bundelkhand

पत्थरों की मंडी में किसान नीलाम

जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर पहरा ग्राम पंचायत का व्यास कुंड ऐसा स्थान है जिसके जल स्त्रोत पूरे साल कुंड में पानी बनाए रखते थे। आसपास के गांव वाले भी कुंड के पानी से ही गुजर बसर करते लेकिन सूखे की विभीषिका

p bengal

बंगाल में ममता भी बिहार फॉर्मूले पर!

2011 के विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी, कांग्रेस गठबंधन के बूते ही सत्ता हासिल कर पाईं। चुनाव के साल भर बाद तक कांग्रेस के साथ उनका रिश्ता भी कायम रहा लेकिन फिर पूरी तरह टूट भी गया। 9 दिसंबर को ममता, सोनिया से

bundelkhand

किसान कर रहे आत्महत्या, गांव खाली..!

पिछले डेढ़ दशक से भी ज्यादा समय से बुंदेलखंड के किसान आत्महत्या और सर्वाधिक जल संकट से जूझ रहे हैं। अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो अप्रैल वर्ष 2003 से मार्च 2015 तक 3280 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। सूखे की भीषण मार

mamata-banerjee_012111080156

पश्चिम बंगाल में भी बंगाली बनाम बाहरी मुद्दा बनेगा?

भाजपा की जीत के रथ पर सवार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को रोकने के लिए बिहार में नीतिश कुमार और लालू प्रसाद यादव की जोड़ी ने बिहार बनाम बाहरी का जो मुद्दा उछाला था उसी का परिणाम है

फाइलों से निकल कर जमीन तक नहीं पहुंचा पानी !

बुंदेलखंड पैकेज अफसरों और नेताओं के लिए ऐसा कमाऊ पैकेज बना कि इन्होंने योजनाओं को कागजों पर तो तैयार कर लिया लेकिन वे जमीन पर नहीं उतर सकीं। इसका परिणाम यह हो रहा है कि

bundelkhend

250 से 1500 करोड़ पहुंच गई परियोजना, काम कुछ नहीं

बुंदेलखंड को पानी-पानी करने के लिए बरसों के प्रयास भी नाकाफी हैं। 1982 में जलसंसाधन विभाग ने 258 करोड़ की लागत से क्षेत्र को जल संपन्न बनाने के लिए बड़ी योजना तैयार की, लेकिन यह

1 2 3 4